June 25, 2024

यादव समाज की बैठक सम्पन्न हुई 

समाजिक नियमावली में संशोधन हेतु प्रस्ताव

रायपुर।
 छत्तीसगढ़ झेरिया यादव समाज पं.क्र.5066 से  सम्बन्ध्ता महानगर इकाई की बैठक विगत दिन यादव समाजिक भवन महादेव घाट रायपुरा रायपुर (छ.ग.) में सुन्दरलाल यादव शहर जिला अध्यक्ष के सानिध्य में संपन्न हुई। सर्वप्रथम शिरोमणि भगवान श्री राधा-कृष्ण जी की पूजा अर्चना से प्रारंभ हुई। सुन्दरलाल यादव ने अध्यक्षीय उद्‌बोधन में कहा हिन्दू रीति रिवाज में विवाह के दौरान मौर सौपने की परंपरा सालो से चली जा रही है। इस परंपरा को दूल्हे की सुहागिन माताओं के साथ अन्य सुहागिन रिश्तेदार महिलाएं निभाती है। विधवा माताओं को इस अधिकार से वंचित रखा गया है, लेकिन अब इस रूढ़िवादी को समाप्त कर विधवा माताओं को भी दूल्हे पुत्र को मौर सौंपने का अधिकार दिया जायेगा। इसके अलावा समाज में किसी की मृत्यु होने पर कफन की जगह सहयोग राशि दी जाती है और मृत्यु भोज स्वेच्छानुसार रखा गया है।

मौर का अर्थ है मुकुट राजा महाराजाओं का श्रृंगार और जिम्मेदारी का प्रतीक मौर धारण कर दूल्हा राजा बन जाता है इसलिए इन्हें दूल्हे राजा भी कहते है मौर सौपने का आशय वर को भावी जीवन के लिए आशीष व उत्तरदायित्व प्रदान करना है। इस रस्म में बारात रवानगी के पूर्व वर को पूजा घर में मौर बांधा जाता है। आंगन में चौक पुरकर पीढ़ा रखते है और वर को उस पर खड़ा कर या कुर्सी में बिठाकर सर्व प्रथम माँ उसके बाद चाची मामी  बड़ी बहन व सुवासिन सहित 7 महिलाएँ मौर सौपती हैं।

उक्त बैठक में श्री परदेशीराम यादव न्या.प्र.अध्यक्ष, श्री शत्रुघन यादव वरिष्ठ उपाध्यक्ष, श्री  श्री प्रीतम यादव कार्यकारिणी अध्यक्ष, बैसाखू राम यादव सचिव, श्री मतवारी यादव कोषाध्यक्ष, श्री नरेश यादव संयुक्त सचिव, श्री रामस्वरूप यादव लेखापाल, श्री घुरूऊराम यादव संरक्षक, आदि समाज प्रमुख एवं स्वजाति बंधु महिला एवं पुरुष अत्याधिक संख्या में उपस्थित रहे। उक्त जानकारी प्रेस विज्ञप्ति में श्री मयाराम यादव एवं श्री सुरेंद्र यादव ने दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post सरकार द्वारा वसूली के लिये व्यवसायियों को धमकाया जा रहा है – दीपक बैज
Next post पीएफसी ग्रुप ने 25% वृद्धि के साथ उच्चतम वार्षिक कर पश्चात लाभ (पीएटी) दर्ज किया
error: Content is protected !!