April 14, 2024

नाबार्ड का  चार दिवसीय  राष्ट्रीय मेला का शुभारंभ

बिलासपुर. नाबार्ड के छत्तीसगढ़ क्षेत्रीय कार्यालय द्वारा 27 मार्च से 30 मार्च 2023 तक बीटीआई ग्राउंड, शंकर नगर रायपुर में “गोंडवाना राष्ट्रीय आजीविका, कला एवं सांस्कृतिक महोत्सव 2023” आयोजन किया जा रहा है. इसका उद्घाटन माननीय कृषि मंत्री छत्तीसगढ़ श्री रवीद्र चौबे ने किया। उद्घाटन समारोह मे  अपेक्स बैंक अध्यक्ष व केबिनेट मंत्री दर्जा, छत्तीसगढ़ शासन श्री बैजनाथ चन्द्राकर, रायपुर नगर निगम महापौर श्री एजाज़ ढ़ेबर, कुलपति डॉ. आरएस कुरील, श्री कुलदीप जुनेजा विधायक, नाबार्ड मुख्यमहाप्रबंधक डॉ. ज्ञानेंद्र मणि,  महाप्रबंधक डॉ सुरेंद्र बाबू, संयोजक एसएलबीसी, अध्यक्ष छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक, श्री कर्नेल चंद, सहायक निदेशक और राज्य सरकार के अधिकारीगण शामिल हुए।
इस अवसर पर माननीय कृषि मंत्री ने राज्य में कृषि और ग्रामीण विकास में नाबार्ड के प्रयासों को भूरी-भूरी प्रशंसा करते हुए बताया की इस तरह के आयोजन आदिवासी और सांस्कृतिक परम्परा को बढ़ावा देने मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। इस मेला के आयोजन से ग्रामीण कुटीर उद्योगों तथा हस्तशिल्प को बढ़ावा मिलेगा एवं रोजगार के बेहतर अवसर मिलेंगे।
अपेक्स बैंक के अध्यक्ष श्री बैजनाथ चन्द्राकर ने कहा कि नाबार्ड के इस राष्ट्रीय मेला में छत्तीसगढ़ के साथ-साथ अन्य राज्यो के ग्रामीण शिल्पकारो, बुनकरों,स्वसहायता समूहों, किसानों द्वारा निर्मित वस्तुओं की प्रदर्शनी व बिक्री के लिए स्टाल लगाए गए है। नाबार्ड द्वारा  ऐसे शिल्पकारों व कारीगरों को प्रमोट करने के लिए समय-समय पर प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते है।
नाबार्ड के मुख्यमहाप्रबंधक डॉ. ज्ञानेन्द्र मणि ने इस अवसर पर नाबार्ड की विभिन्न योजनाओं की जानकारी देते हुए ‘गोंडवाना राष्ट्रीय आजीविका, कला एवं सांस्कृतिक महोत्सव 2023’ का महत्त्व भी बताया और आह्वान किया की नाबार्ड ग्रामीण भारत को आत्मनिर्भर बनाने में अहम भूमिका अदा कर रहा हे. इस प्रदर्शनी में नाबार्ड ने 120 स्टाल प्रायोजित किया है जिनमें कि NABARD समर्थित स्वयं सहायता समूहों, एफपीओ, गैर कृषि क्षेत्र के कारीगरों समेत 250 प्रतिभागी सम्मिलित हुए है।  छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों से 125 प्रतिभागी, साथ ही देश के अन्य 15 राज्यों – यथा महाराष्ट्र, जम्मू और कश्मीर, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, तेलंगाना, पश्चिमी बंगाल, झारखंड, तमिलनाडु, राजस्थान, आंध्र प्रदेश व हरियाणा से करीब 125 प्रतिभागी प्रदर्शनी में भाग लेकर इसका लाभ उठायेंगे। इसके अलावा राज्य के 5 जिलों से 125 किसानों और कारीगरों को भी एक्स्पोसर विजिट पर आमंत्रित किया गया है।
इसका उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र में कार्यरत नाबार्ड समर्थित स्वयं सहायता समूह/ शिल्पकार/ उत्पादक संगठनों/ हथकरघा /हस्तशिल्प कारों द्वारा निर्मित विभिन्न उत्पादों के प्रदर्शन और बिक्री हेतु एक मंच प्रदान करना है. इसमें 200 से अधिक स्टॉल लगे हैं व ‘किड जोन’, ‘फूड कोर्ट’ भी हैं। मेले में हर दिन रंगा-रंग कार्यक्रम भी होते हैं . नाबार्ड से समर्थित भागीदारों को नाबार्ड मुफ्त स्टॉल उपलब्ध कराता है व उनके रहने , आने जाने का भाड़ा भी अदा करता हे, जिससे भागीदारों की अच्छी आमदनी होती है. काफी अच्छी भीड़ भी इस एक्सपो में भाग ले रही है, जिससे भागीदारों का मनोबल उत्साहित हो रहा हे और छत्तीसगढ़ राज्य का नाम रोशन हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post बनारस रेल मण्डल में  नॉन इंटरलॉकिंग कुछ ट्रेनों का  परिचालन प्रभावित
Next post सिम्स में महिला मरीज से जूनियर डॉक्टर ने किया  दुर्व्यवहार
error: Content is protected !!