April 16, 2024

अपनी सेहत पर मंडराते खतरों को समझें – मच्छरों को भगाने के लिए अवैध और चाइनीज-रसायन युक्त मस्कीटो रिपेलेन्ट के छिपे खतरे

जयंत देशपांडेमानद सचिवहोम इन्सेक्ट कंट्रोल एसोसिएशन (एचआईसीए) की राय

भारत में मच्छरों के खिलाफ लड़ाई निरंतर जारी है। ये छोटे कीट हालांकि नगण्य प्रतीत होते हैं, लेकिन इनके हमले से डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी घातक बीमारियां फैल सकती हैं और इस तरह ये कीट हमारी सेहत के लिए एक बड़ा खतरा पैदा कर सकते हैं। निवारक उपाय के रूप में, कई लोग मच्छर भगाने वाली अगरबत्तियों का उपयोग कर रहे हैं, जो बाज़ार में आसानी से उपलब्ध हैं। हालाँकि, देश में अवैध और गैर अनुमोदित मच्छर भगाने वाली अगरबत्तियों के व्यापक उपयोग से सार्वजनिक स्वास्थ्य को खतरा है।

हालाँकि यह मुद्दा मच्छर भगाने वाली ऐसी अगरबत्तियों से संबंधित नहीं है जो सरकार द्वारा अनुमोदित हैं और प्रतिष्ठित निर्माताओं द्वारा बनाई गई हैं, समस्या अवैध, नकली और गैर-अनुमोदित उत्पादों से संबंधित है जिनका कई लोग बिना किसी समझ के उपयोग कर रहे हैं। चिंता का कारण चीन से अवैध रूप से आयातित अनियमित और अपंजीकृत रसायनों का बड़े पैमाने पर उपयोग भी है, जिनका इस्तेमाल सरकारी अधिकारियों से बिना किसी जांच और अनुमोदन के इन अगरबत्तियों में किया जाता है।

ये अवैध, नकली और गैर-अनुमोदित स्टिक्स अपनी कम कीमत और व्यापक उपलब्धता के कारण बड़ी संख्या में लोग इन्हें खरीदते हैं। लेकिन इनके कारोबार में अक्सर उचित गुणवत्ता नियंत्रण और पारदर्शिता के नियम पूरे नहीं किए जाते हैं। अनियमित और अपंजीकृत रसायनों वाले ये प्रोडक्ट सरकारी अधिकारियों से आवश्यक कीटनाशक लाइसेंस के बिना चीन से आयात किए जाते हैं, संग्रहीत और वितरित किए जाते हैं। भारत में ऐसे अनियमित, अपंजीकृत और अस्वीकृत रसायनों से कई स्वास्थ्य संबंधी अनेक गंभीर समस्याएं और जोखिम हो सकते हैं।

इसके अलावा, घरेलू कीटनाशकों के रूप में इन अवैध, नकली अगरबत्तियों की प्रभावशीलता को लेकर भी हमेशा संदेह बना रहता है। केंद्रीय कीटनाशक बोर्ड और पंजीकरण समिति (सीआईबीआरसी) जैसी सरकारी एजेंसियों द्वारा अनुमोदित उत्पादों के विपरीत, इन अगरबत्तियों में मानकीकृत परीक्षण की कमी होती है और इन्हें सक्रिय अवयवों के उचित कंसंट्रेशन के साथ तैयार नहीं किया जा सकता है। इसका मतलब यह हुआ कि मच्छरों के खिलाफ लोगों को पर्याप्त सुरक्षा नहीं मिल पाती है, जिससे उपभोक्ताओं को संभावित रूप से उन्हीं बीमारियों का सामना करना पड़ता है, जिनसे वे बचना चाहते हैं।

एचआईसीए नागरिकों को अवैध रूप से आयातित, अनियमित रसायनों वाली अवैध घरेलू अगरबत्ती खरीदने के खिलाफ सलाह देता है। इसके बजाय, यह उन्हें विश्वसनीय निर्माताओं और केंद्रीय कीटनाशक बोर्ड द्वारा अनुमोदित निर्माताओं से सुरक्षित विकल्प चुनने के लिए प्रोत्साहित करता है। इसके अतिरिक्त, बाजार में सरकार द्वारा अनुमोदित सुरक्षित विकल्प उपलब्ध हैं जैसे कि गुडनाइट अगरबत्ती, जो भारत की पहली सरकार द्वारा पंजीकृत एक्टिव बेस्ड मच्छर रोधी अगरबत्ती है।

मच्छर जनित बीमारियों से खुद को बचाना महत्वपूर्ण है। जानकारीपूर्ण विकल्प चुनकर और सरकार द्वारा अनुमोदित उत्पादों को खरीदकर, उपभोक्ता यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि वे खुद को और अपने प्रियजनों को स्वस्थ रखने के लिए प्रभावी और सुरक्षित समाधानों का उपयोग कर रहे हैं। संक्षेप में, उपभोक्ताओं को जागरूक होना चाहिए और सस्ते, अनियमित, अस्वीकृत और अपंजीकृत घरेलू कीटनाशक उत्पादों को चुनने से बचना चाहिए। उपभोक्ताओं को सलाह दी जाती है कि वे पैक पर की गई घोषणाओं की सावधानीपूर्वक जांच करें और पढ़ें, क्योंकि भले ही कोई उत्पाद महंगा न हो, लेकिन एक सस्ता, अवैध और नकली उत्पाद उनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। अपने परिवार की सुरक्षा के लिए सही घरेलू कीटनाशक उत्पाद का चयन करने में ही असली समझदारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post यूपी में मदरसा शिक्षा अधिनियम असंवैधानिक घोषित
Next post video…कांग्रेस प्रत्याशी का विरोध, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष ने खोला मोर्चा 
error: Content is protected !!